रायवाला से शगुफ्ता परवीन की रिपोर्ट: 5 सितंबर को वादी नरेश चंद्र कुकरेती पुत्र ललित मोहन कुकरेती निवासी प्रतीत नगर रायवाला देहरादून के द्वारा थाना हाजा पर एक लिखित तहरीर बाबत द्वारा कैलाशी विजन प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड नामक कंपनी के प्रबन्धको द्वारा प्राधिकृत ना होने के बावजूद जनपद देहरादून व अन्य जनपद व राज्यो मे फर्जी तरीके से लोगो को गुमराह कर कम्पनी की ब्रांच खोलकर फर्जी खाते खोलकर लोगो से आरडी, एफडी व डेली डिपाजिट स्कीम व लोन देने के नाम पर लोगो से धोखाधडी करने के सम्बन्ध मे लिखित तहरीरी दी।

इसके आधार पर थाना हाजा पर मु0अ0सं0-113/2020 धारा- 406,420 आईपीसी बनाम कमल भारती आदि पंजीकृत किया गया। उक्त कम्पनी के सम्बन्ध मे एसटीएफ ( आर्थिक अपराध शाखा) देहरादून द्वारा भी जांच की जा रही थी।

विवेचना के सफल अनावरण को उपमहानिरीक्षक/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनपद देहरादून के कुशल निर्देशन में पुलिस अधीक्षक ग्रामीण एवं क्षेत्राधिकारी ऋषिकेश के निकट पर्यवेक्षण में थानाध्यक्ष रायवाला के द्वारा वरिष्ठ उप निरीक्षक थाना रायवाला के नेतृत्व में टीम गठित कर उचित दिशा निर्देश दिए गए|

दौराने विवेचना व एसटीएफ की जांच मे पाया कि कमल भारती पुत्र हीरालाल भारती निवासी ग्राम इस्सेपुर थाना नजीबाबाद जिला बिजनौर उत्तर प्रदेश एवं नसीबुद्दीन पुत्र हसमत अली निवासी जमनपुर थाना सेलाकुई देहरादून एवं अन्य के द्वारा जनवरी 2018 मे फर्जी तरीके व गलत तथ्यो के आधार पर कैलाशी विजन प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड द्वारा करीब 23 ब्रांच खोली गयी।

जिसमें से 13 ब्राचें देहरादून व 01 ब्रांच कोटद्वार व 05 ब्रांच नजीवाबाद व 03 ब्रांच मध्य प्रदेश मे खोली गयी थी, जिनमें करीब 9000/- ग्राहको के खाते खोलकर आरडी, एफडी व डेली डिपाजिट स्कीम व लोन के नाम पर कम्पनी ने करीब 28 करोड रूपये प्राप्त किये। कुछ ग्राहको को मैच्योरिटी की रकम भुगतान के बाद अधिकांश लोगों को उनकी रकम का भुगतान नहीझ किया गया है।

कम्पनी लोगो की रकम देने मे असमर्थ है। कम्पनी के खाते वर्तमान में कोई धनराशि शेष नहीं है। वादी नरेश कुकरेती द्वारा बताया गया कि रायवाला ब्रांच मे कम्पनी के करीब 110 खाताधारको के 40लाख रूपये की धनराशि नहीं लौटायी गयी है। कम्पनी के प्रबन्धको से सम्पर्क नही हो पा रहा है।

वह लोगो का पैसा धोखाधडी से प्राप्त कर भाग गये है। विवेचना /जांच में आये कम्पनी के विरूध प्राप्त तथ्यो के आधार पर बामुश्किल कम्पनी के प्रबंध निदेशक कमल भारती व निदेशक नसीबुद्दीन को पूछताछ को बुलाया।

पूछताछ में दोनों द्वारा कम्पनी का निदेशक होना बताया, दोनो व्यक्तियो द्वारा संयुक्त रूप से कम्पनी के खाते मे प्राप्त समस्त धनराशि का स्वयं आहरण कर विभिन्न जगह उपयोग करना बताया।

कम्पनी के ग्राहको की करोडो रूपये की बकाया धनराशि देने मे असमर्थता जाहिर की व फर्जी कम्पनी के संचालन करने के सम्बन्ध मे माफी मांगी उक्त दोनो कंपनी के निदेशकों/ अभियुक्तो को थाना रायवाला पुलिस द्वारा बाद जांच व बयान सम्बन्धित मु0अ0स0 113/20 धारा 406/420/120बी भादवि0 के अन्तर्गत गिरफ्तार किया गया ।

अभियुक्त व कम्पनी का प्रबन्धक निदेशक कमल भारती बी.ए. पास है। जो पूर्व मे कोरियर कम्पनी मे डाक बाटने का काम करता था। उसके पश्चात जनशक्ति कोपरेटिव/जनबन्धन निधि कंपनी मे वर्ष 2018 तक एजेन्ट के रूप मे कार्य करता था।

जनबन्धन निधि के संचालक के जेल जाने के बाद कमल भारती द्वारा अपने अन्य साथियो के साथ जनवरी 2018 मे उक्त फर्जी कम्पनी खोली व अभियुक्त नसीमुद्दीन 5वीं कक्षा पास है।

पूर्व में दिहाडी मजदूरी का कार्य करता था। वर्ष 2017 मे जनबन्धन निधि मे एजेन्ट के रूप मे कार्य करता था। 2018 में जनबन्धन निधि के सचांलक के जेल जाने के बाद उक्त कम्पनी खोली गयी।

कम्पनी का रजिस्टर्ड आफिस भी अपने घर ग्राम जमनपुर सेलाकुईं जनपद देहरादून मे खोला गया । रायवाला ब्रांच के अतिरिक्त अन्य जगह कम्पनी की स्थापित ब्रांचो से जानकारी की जा रही है।

पुलिस टीम में हेमंत खंडूरी थानाध्यक्ष रायवाला, दिनेश कुमार वरिष्ठ उप निरीक्षक थाना रायवाला, उप निरीक्षक विनोद कुमार, कांस्टेबल सचिन सैनी, कांस्टेबल दिनेश, कांस्टेबल पंकज कुमार आदि शामिल रहे।



source http://khabarindia24x7.com/2020/09/06/raiwala-dun-news/?utm_source=rss&utm_medium=rss&utm_campaign=raiwala-dun-news